raaste mein phir wahi pairo'n ka chakkar aa gaya | रास्ते में फिर वही पैरों का चक्कर आ गया - Rahat Indori

raaste mein phir wahi pairo'n ka chakkar aa gaya
january guzra nahin tha aur december aa gaya

ye sharaarat hai siyaasat hai ke hai saazish koi
shaakh par fal aayen isse pehle patthar aa gaya

maine kuchh paani bacha rakha tha apni aankh mein
ek samandar apne sukhe hont lekar aa gaya

apne darwaaze pe maine pehle khud aawaaz di
aur phir kuchh der mein khud hi nikal kar aa gaya

maine basti mein kadam rakha to yu laga
jaise jungle mere paaro se lipt kar aa gaya

paanv ke thokar mein jis ke tere takhton taaj hai
shah se ja kar koi kah de kalander aa gaya

रास्ते में फिर वही पैरों का चक्कर आ गया
जनवरी गुज़रा नहीं था और दिसंबर आ गया

ये शरारत है, सियासत है, के है साज़िश कोई
शाख़ पर फल आयें इससे पहले पत्थर आ गया

मैने कुछ पानी बचा रखा था अपनी आँख में
एक समंदर अपने सूखे होंठ लेकर आ गया

अपने दरवाज़े पे मैंने पहले खुद आवाज़ दी
और फिर कुछ देर में खुद ही निकल कर आ गया

मैने बस्ती में कदम रखा तो यू लगा
जैसे जंगल मेरे पैरो से लिपट कर आ गया

पांव के ठोकर में जिस के तेरे तख्तों ताज है
शाह से जा कर कोई कह दे कलंदर आ गया

- Rahat Indori
7 Likes

Shahr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Shahr Shayari Shayari