teri har baat mohabbat mein gawara kar ke | तेरी हर बात मोहब्बत में गवारा कर के - Rahat Indori

teri har baat mohabbat mein gawara kar ke
dil ke bazaar mein baithe hain khasaara kar ke

aate jaate hain kai rang mere chehre par
log lete hain maza zikr tumhaara kar ke

ek chingaari nazar aayi thi basti mein use
vo alag hat gaya aandhi ko ishaara kar ke

aasmaanon ki taraf fenk diya hai main ne
chand mitti ke charaagon ko sitaara kar ke

main vo dariya hoon ki har boond bhanwar hai jis ki
tum ne achha hi kiya mujh se kinaara kar ke

muntazir hoon ki sitaaron ki zara aankh lage
chaand ko chat pur bula loonga ishaara kar ke

तेरी हर बात मोहब्बत में गवारा कर के
दिल के बाज़ार में बैठे हैं ख़सारा कर के

आते जाते हैं कई रंग मिरे चेहरे पर
लोग लेते हैं मज़ा ज़िक्र तुम्हारा कर के

एक चिंगारी नज़र आई थी बस्ती में उसे
वो अलग हट गया आँधी को इशारा कर के

आसमानों की तरफ़ फेंक दिया है मैं ने
चंद मिट्टी के चराग़ों को सितारा कर के

मैं वो दरिया हूँ कि हर बूँद भँवर है जिस की
तुम ने अच्छा ही किया मुझ से किनारा कर के

मुंतज़िर हूँ कि सितारों की ज़रा आँख लगे
चाँद को छत पुर बुला लूँगा इशारा कर के

- Rahat Indori
18 Likes

Shehar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Shehar Shayari Shayari