ja ke ye kah de koi sholon se chingaari se | जा के ये कह दे कोई शोलों से चिंगारी से - Rahat Indori

ja ke ye kah de koi sholon se chingaari se
phool is baar khile hain badi tayyaari se

apni har saans ko neelaam kiya hai main ne
log aasaan hue hain badi dushwaari se

zehan mein jab bhi tire khat ki ibaarat chamki
ek khushboo si nikalne lagi almaari se

shahzaade se mulaqaat to naa-mumkin hai
chaliye mil aate hain chal kar kisi darbaari se

baadshaahon se bhi fenke hue sikke na liye
ham ne khairaat bhi maangi hai to khuddaari se

जा के ये कह दे कोई शोलों से चिंगारी से
फूल इस बार खिले हैं बड़ी तय्यारी से

अपनी हर साँस को नीलाम किया है मैं ने
लोग आसान हुए हैं बड़ी दुश्वारी से

ज़ेहन में जब भी तिरे ख़त की इबारत चमकी
एक ख़ुश्बू सी निकलने लगी अलमारी से

शाहज़ादे से मुलाक़ात तो ना-मुम्किन है
चलिए मिल आते हैं चल कर किसी दरबारी से

बादशाहों से भी फेंके हुए सिक्के न लिए
हम ने ख़ैरात भी माँगी है तो ख़ुद्दारी से

- Rahat Indori
3 Likes

Phool Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Phool Shayari Shayari