chamakte lafz sitaaron se cheen laaye hain | चमकते लफ़्ज़ सितारों से छीन लाए हैं - Rahat Indori

chamakte lafz sitaaron se cheen laaye hain
ham aasmaan se ghazal ki zameen laaye hain

vo aur honge jo khanjar chhupa ke laate hain
ham apne saath fati aasteen laaye hain

hamaari baat ki gehraai khaak samjhenge
jo parbaton ke liye khurdbeen laaye hain

haso na ham pe ki har bad-naseeb banjaare
saroon pe rakh ke watan ki zameen laaye hain

mere qabeele ke bacchon ke khel bhi hain ajeeb
kisi sipaahi ki talwaar cheen laaye hain

चमकते लफ़्ज़ सितारों से छीन लाए हैं
हम आसमाँ से ग़ज़ल की ज़मीन लाए हैं

वो और होंगे जो ख़ंजर छुपा के लाते हैं
हम अपने साथ फटी आस्तीन लाए हैं

हमारी बात की गहराई ख़ाक समझेंगे
जो पर्बतों के लिए ख़ुर्दबीन लाए हैं

हँसो न हम पे कि हर बद-नसीब बंजारे
सरों पे रख के वतन की ज़मीन लाए हैं

मिरे क़बीले के बच्चों के खेल भी हैं अजीब
किसी सिपाही की तलवार छीन लाए हैं

- Rahat Indori
2 Likes

Sarhad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Sarhad Shayari Shayari