mujhe dubo ke bahut sharmasaar rahti hai | मुझे डुबो के बहुत शर्मसार रहती है - Rahat Indori

mujhe dubo ke bahut sharmasaar rahti hai
vo ek mauj jo dariya ke paar rahti hai

hamaare taq bhi be-zaar hain ujaalon se
diye ki lau bhi hawa par sawaar rahti hai

phir us ke ba'ad wahi baasi manzaron ke juloos
bahaar chand hi lamhe bahaar rahti hai

isee se qarz chukaaye hain main ne sadiyon ke
ye zindagi jo hamesha udhaar rahti hai

hamaari shehar ke daanishwaron se yaari hai
isee liye to qaba taar taar rahti hai

mujhe khareedne waalo qataar mein aao
vo cheez hoon jo pas-e-ishtihhaar rahti hai

मुझे डुबो के बहुत शर्मसार रहती है
वो एक मौज जो दरिया के पार रहती है

हमारे ताक़ भी बे-ज़ार हैं उजालों से
दिए की लौ भी हवा पर सवार रहती है

फिर उस के बा'द वही बासी मंज़रों के जुलूस
बहार चंद ही लम्हे बहार रहती है

इसी से क़र्ज़ चुकाए हैं मैं ने सदियों के
ये ज़िंदगी जो हमेशा उधार रहती है

हमारी शहर के दानिशवरों से यारी है
इसी लिए तो क़बा तार तार रहती है

मुझे ख़रीदने वालो क़तार में आओ
वो चीज़ हूँ जो पस-ए-इश्तिहार रहती है

- Rahat Indori
4 Likes

Dosti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Dosti Shayari Shayari