shehar kya dekhen ki har manzar mein jaale pad gaye | शहर क्या देखें कि हर मंज़र में जाले पड़ गए - Rahat Indori

shehar kya dekhen ki har manzar mein jaale pad gaye
aisi garmi hai ki peele phool kaale pad gaye

main andheron se bacha laaya tha apne-aap ko
mera dukh ye hai mere peeche ujaale pad gaye

jin zameenon ke qibaale hain mere purkhon ke naam
un zameenon par mere jeene ke laale pad gaye

taq mein baitha hua boodha kabootar ro diya
jis mein dera tha usi masjid mein taale pad gaye

koi waaris ho to aaye aur aa kar dekh le
zill-e-subhaani ki unchi chat mein jaale pad gaye

शहर क्या देखें कि हर मंज़र में जाले पड़ गए
ऐसी गर्मी है कि पीले फूल काले पड़ गए

मैं अँधेरों से बचा लाया था अपने-आप को
मेरा दुख ये है मिरे पीछे उजाले पड़ गए

जिन ज़मीनों के क़बाले हैं मिरे पुरखों के नाम
उन ज़मीनों पर मिरे जीने के लाले पड़ गए

ताक़ में बैठा हुआ बूढ़ा कबूतर रो दिया
जिस में डेरा था उसी मस्जिद में ताले पड़ गए

कोई वारिस हो तो आए और आ कर देख ले
ज़िल्ल-ए-सुब्हानी की ऊँची छत में जाले पड़ गए

- Rahat Indori
4 Likes

Dard Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Dard Shayari Shayari