raat ki dhadkan jab tak jaari rahti hai | रात की धड़कन जब तक जारी रहती है - Rahat Indori

raat ki dhadkan jab tak jaari rahti hai
sote nahin hum zimmedaari rahti hai

jab se tu ne halki halki baatein keen
yaar tabeeyat bhari bhari rahti hai

paanv kamar tak dhans jaate hain dharti mein
haath pasaare jab khuddaari rahti hai

vo manzil par akshar der se pahunchen hain
jin logon ke paas sawaari rahti hai

chat se us ki dhoop ke neze aate hain
jab aangan mein chaanv hamaari rahti hai

ghar ke baahar dhoondhta rehta hoon duniya
ghar ke andar duniyadari rahti hai

रात की धड़कन जब तक जारी रहती है
सोते नहीं हम ज़िम्मेदारी रहती है

जब से तू ने हल्की हल्की बातें कीं
यार तबीअत भारी भारी रहती है

पाँव कमर तक धँस जाते हैं धरती में
हाथ पसारे जब ख़ुद्दारी रहती है

वो मंज़िल पर अक्सर देर से पहुँचे हैं
जिन लोगों के पास सवारी रहती है

छत से उस की धूप के नेज़े आते हैं
जब आँगन में छाँव हमारी रहती है

घर के बाहर ढूँढता रहता हूँ दुनिया
घर के अंदर दुनिया-दारी रहती है

- Rahat Indori
8 Likes

Motivational Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Motivational Shayari Shayari