main laakh kah doon ki aakaash hoon zameen hoon main | मैं लाख कह दूँ कि आकाश हूँ ज़मीं हूँ मैं - Rahat Indori

main laakh kah doon ki aakaash hoon zameen hoon main
magar use to khabar hai ki kuch nahin hoon main

ajeeb log hain meri talash mein mujh ko
wahan pe dhundh rahe hain jahaan nahin hoon main

main aainon se to mayus laut aaya tha
magar kisi ne bataaya bahut haseen hoon main

vo zarre zarre mein maujood hai magar main bhi
kahi kahi hoon kahaan hoon kahi nahin hoon main

vo ik kitaab jo mansoob tere naam se hai
usi kitaab ke andar kahi kahi hoon main

sitaaro aao meri raah mein bikhar jaao
ye mera hukm hai haalaanki kuch nahin hoon main

yahin husain bhi guzre yahin yazid bhi tha
hazaar rang mein doobi hui zameen hoon main

ye boodhi qabren tumhein kuch nahin bataaye'ngi
mujhe talash karo dosto yahin hoon main

मैं लाख कह दूँ कि आकाश हूँ ज़मीं हूँ मैं
मगर उसे तो ख़बर है कि कुछ नहीं हूँ मैं

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझ को
वहाँ पे ढूँड रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं

मैं आइनों से तो मायूस लौट आया था
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं

वो ज़र्रे ज़र्रे में मौजूद है मगर मैं भी
कहीं कहीं हूँ कहाँ हूँ कहीं नहीं हूँ मैं

वो इक किताब जो मंसूब तेरे नाम से है
उसी किताब के अंदर कहीं कहीं हूँ मैं

सितारो आओ मिरी राह में बिखर जाओ
ये मेरा हुक्म है हालाँकि कुछ नहीं हूँ मैं

यहीं हुसैन भी गुज़रे यहीं यज़ीद भी था
हज़ार रंग में डूबी हुई ज़मीं हूँ मैं

ये बूढ़ी क़ब्रें तुम्हें कुछ नहीं बताएँगी
मुझे तलाश करो दोस्तो यहीं हूँ मैं

- Rahat Indori
15 Likes

Mashwara Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Mashwara Shayari Shayari