sar par saath aakaash zameen par saath samundar bikhre hain | सर पर सात आकाश ज़मीं पर सात समुंदर बिखरे हैं - Rahat Indori

sar par saath aakaash zameen par saath samundar bikhre hain
aankhen chhoti pad jaati hain itne manzar bikhre hain

zinda rahna khel nahin hai is aabaad kharaabe mein
vo bhi akshar toot gaya hai ham bhi akshar bikhre hain

us basti ke logon se jab baatein keen to ye jaana
duniya bhar ko jodne waale andar andar bikhre hain

in raaton se apna rishta jaane kaisa rishta hai
neenden kamron mein jaagi hain khwaab chhato par bikhre hain

aangan ke ma'soom shajar ne ek kahaani likkhi hai
itne fal shaakhon pe nahin the jitne patthar bikhre hain

saari dharti saare mausam ek hi jaise lagte hain
aankhon aankhon qaid hue the manzar manzar bikhre hain

सर पर सात आकाश ज़मीं पर सात समुंदर बिखरे हैं
आँखें छोटी पड़ जाती हैं इतने मंज़र बिखरे हैं

ज़िंदा रहना खेल नहीं है इस आबाद ख़राबे में
वो भी अक्सर टूट गया है हम भी अक्सर बिखरे हैं

उस बस्ती के लोगों से जब बातें कीं तो ये जाना
दुनिया भर को जोड़ने वाले अंदर अंदर बिखरे हैं

इन रातों से अपना रिश्ता जाने कैसा रिश्ता है
नींदें कमरों में जागी हैं ख़्वाब छतों पर बिखरे हैं

आँगन के मा'सूम शजर ने एक कहानी लिक्खी है
इतने फल शाख़ों पे नहीं थे जितने पत्थर बिखरे हैं

सारी धरती सारे मौसम एक ही जैसे लगते हैं
आँखों आँखों क़ैद हुए थे मंज़र मंज़र बिखरे हैं

- Rahat Indori
1 Like

Romantic Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Romantic Shayari Shayari