bair duniya se qabeele se ladai lete | बैर दुनिया से क़बीले से लड़ाई लेते - Rahat Indori

bair duniya se qabeele se ladai lete
ek sach ke liye kis kis se buraai lete

aable apne hi angaaron ke taaza hain abhi
log kyun aag hatheli pe paraai lete

barf ki tarah december ka safar hota hai
ham use saath na lete to razaai lete

kitna maanoos sa hamdardon ka ye dard raha
ishq kuchh rog nahin tha jo davaai lete

chaand raaton mein hamein dasta hai din mein suraj
sharm aati hai andheron se kamaai lete

tum ne jo tod diye khwaab ham un ke badle
koi qeemat kabhi lete to khudaai lete

बैर दुनिया से क़बीले से लड़ाई लेते
एक सच के लिए किस किस से बुराई लेते

आबले अपने ही अँगारों के ताज़ा हैं अभी
लोग क्यूँ आग हथेली पे पराई लेते

बर्फ़ की तरह दिसम्बर का सफ़र होता है
हम उसे साथ न लेते तो रज़ाई लेते

कितना मानूस सा हमदर्दों का ये दर्द रहा
इश्क़ कुछ रोग नहीं था जो दवाई लेते

चाँद रातों में हमें डसता है दिन में सूरज
शर्म आती है अँधेरों से कमाई लेते

तुम ने जो तोड़ दिए ख़्वाब हम उन के बदले
कोई क़ीमत कभी लेते तो ख़ुदाई लेते

- Rahat Indori
5 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari