log har mod pe ruk ruk ke sambhalte kyun hain | लोग हर मोड़ पे रुक रुक के सँभलते क्यूँ हैं - Rahat Indori

log har mod pe ruk ruk ke sambhalte kyun hain
itna darte hain to phir ghar se nikalte kyun hain

may-kada zarf ke mea'ar ka paimaana hai
khaali sheeshon ki tarah log uchhalte kyun hain

mod hota hai jawaani ka sambhalne ke liye
aur sab log yahin aa ke fisalte kyun hain

neend se mera taalluq hi nahin barson se
khwaab aa aa ke meri chat pe tahalte kyun hain

main na jugnoo hoon diya hoon na koi taara hoon
raushni waale mere naam se jalte kyun hain

लोग हर मोड़ पे रुक रुक के सँभलते क्यूँ हैं
इतना डरते हैं तो फिर घर से निकलते क्यूँ हैं

मय-कदा ज़र्फ़ के मेआ'र का पैमाना है
ख़ाली शीशों की तरह लोग उछलते क्यूँ हैं

मोड़ होता है जवानी का सँभलने के लिए
और सब लोग यहीं आ के फिसलते क्यूँ हैं

नींद से मेरा तअल्लुक़ ही नहीं बरसों से
ख़्वाब आ आ के मिरी छत पे टहलते क्यूँ हैं

मैं न जुगनू हूँ दिया हूँ न कोई तारा हूँ
रौशनी वाले मिरे नाम से जलते क्यूँ हैं

- Rahat Indori
4 Likes

Raushni Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Raushni Shayari Shayari