zindagi ko zakham ki lazzat se mat mahroom kar | ज़िंदगी को ज़ख़्म की लज़्ज़त से मत महरूम कर - Rahat Indori

zindagi ko zakham ki lazzat se mat mahroom kar
raaste ke pattharon se khairiyat ma'aloom kar

toot kar bikhri hui talwaar ke tukde samet
aur apne haar jaane ka sabab ma'aloom kar

jaagti aankhon ke khwaabon ko ghazal ka naam de
raat bhar ki karvaton ka zaa'ika manzoom kar

shaam tak laut aaunga haathon ka khaali-pan liye
aaj phir nikla hoon main ghar se hatheli choom kar

mat sikha lehje ko apni barchiyon ke paintare
zinda rahna hai to lehje ko zara ma'soom kar

ज़िंदगी को ज़ख़्म की लज़्ज़त से मत महरूम कर
रास्ते के पत्थरों से ख़ैरियत मा'लूम कर

टूट कर बिखरी हुई तलवार के टुकड़े समेट
और अपने हार जाने का सबब मा'लूम कर

जागती आँखों के ख़्वाबों को ग़ज़ल का नाम दे
रात भर की करवटों का ज़ाइक़ा मंज़ूम कर

शाम तक लौट आऊँगा हाथों का ख़ाली-पन लिए
आज फिर निकला हूँ मैं घर से हथेली चूम कर

मत सिखा लहजे को अपनी बर्छियों के पैंतरे
ज़िंदा रहना है तो लहजे को ज़रा मा'सूम कर

- Rahat Indori
3 Likes

Life Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Life Shayari Shayari