dosti jab kisi se ki jaaye | दोस्ती जब किसी से की जाए - Rahat Indori

dosti jab kisi se ki jaaye
dushmanon ki bhi raay li jaaye

maut ka zahar hai fazaaon mein
ab kahaan ja ke saans li jaaye

bas isee soch mein hoon dooba hua
ye nadi kaise paar ki jaaye

agle waqton ke zakham bharne lage
aaj phir koi bhool ki jaaye

lafz dharti pe sar patkate hain
gumbadon mein sada na di jaaye

kah do is ahad ke buzurgon se
zindagi ki dua na di jaaye

bottlein khol ke to pee barson
aaj dil khol kar hi pee jaaye

दोस्ती जब किसी से की जाए
दुश्मनों की भी राय ली जाए

मौत का ज़हर है फ़ज़ाओं में
अब कहाँ जा के साँस ली जाए

बस इसी सोच में हूँ डूबा हुआ
ये नदी कैसे पार की जाए

अगले वक़्तों के ज़ख़्म भरने लगे
आज फिर कोई भूल की जाए

लफ़्ज़ धरती पे सर पटकते हैं
गुम्बदों में सदा न दी जाए

कह दो इस अहद के बुज़ुर्गों से
ज़िंदगी की दुआ न दी जाए

बोतलें खोल के तो पी बरसों
आज दिल खोल कर ही पी जाए

- Rahat Indori
1 Like

Dua Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Dua Shayari Shayari