ajnabi khwaahishein seene mein daba bhi na sakoon | अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ - Rahat Indori

ajnabi khwaahishein seene mein daba bhi na sakoon
aise ziddi hain parinde ki uda bhi na sakoon

phoonk daaloonga kisi roz main dil ki duniya
ye tira khat to nahin hai ki jila bhi na sakoon

meri ghairat bhi koi shay hai ki mehfil mein mujhe
us ne is tarah bulaaya hai ki ja bhi na sakoon

fal to sab mere darakhton ke pake hain lekin
itni kamzor hain shaakhen ki hila bhi na sakoon

ik na ik roz kahi dhundh hi loonga tujh ko
thokren zahar nahin hain ki main kha bhi na sakoon

अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ
ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूँ

फूँक डालूँगा किसी रोज़ मैं दिल की दुनिया
ये तिरा ख़त तो नहीं है कि जिला भी न सकूँ

मिरी ग़ैरत भी कोई शय है कि महफ़िल में मुझे
उस ने इस तरह बुलाया है कि जा भी न सकूँ

फल तो सब मेरे दरख़्तों के पके हैं लेकिन
इतनी कमज़ोर हैं शाख़ें कि हिला भी न सकूँ

इक न इक रोज़ कहीं ढूँड ही लूँगा तुझ को
ठोकरें ज़हर नहीं हैं कि मैं खा भी न सकूँ

- Rahat Indori
4 Likes

Ghamand Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Ghamand Shayari Shayari