kahi akela mein mil kar jhinjhod doonga use | कहीं अकेले में मिल कर झिंझोड़ दूँगा उसे - Rahat Indori

kahi akela mein mil kar jhinjhod doonga use
jahaan jahaan se vo toota hai jod doonga use

mujhe vo chhod gaya ye kamaal hai us ka
iraada main ne kiya tha ki chhod doonga use

badan chura ke vo chalta hai mujh se sheesha-badan
use ye dar hai ki main tod phod doonga use

paseene baantaa firta hai har taraf suraj
kabhi jo haath laga to nichod doonga use

maza chakha ke hi maana hoon main bhi duniya ko
samajh rahi thi ki aise hi chhod doonga use

कहीं अकेले में मिल कर झिंझोड़ दूँगा उसे
जहाँ जहाँ से वो टूटा है जोड़ दूँगा उसे

मुझे वो छोड़ गया ये कमाल है उस का
इरादा मैं ने किया था कि छोड़ दूँगा उसे

बदन चुरा के वो चलता है मुझ से शीशा-बदन
उसे ये डर है कि मैं तोड़ फोड़ दूँगा उसे

पसीने बाँटता फिरता है हर तरफ़ सूरज
कभी जो हाथ लगा तो निचोड़ दूँगा उसे

मज़ा चखा के ही माना हूँ मैं भी दुनिया को
समझ रही थी कि ऐसे ही छोड़ दूँगा उसे

- Rahat Indori
28 Likes

Alone Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Alone Shayari Shayari