ye khaak-zaade jo rahte hain be-zabaan pade | ये ख़ाक-ज़ादे जो रहते हैं बे-ज़बान पड़े - Rahat Indori

ye khaak-zaade jo rahte hain be-zabaan pade
ishaara kar den to suraj zameen pe aan pade

sukoot-e-zeest ko aamaada-e-baghaavat kar
lahu uchaal ki kuchh zindagi mein jaan pade

hamaare shehar ki beenaaiyon pe rote hain
tamaam shehar ke manzar lahu-luhaan pade

uthe hain haath mere hurmat-e-zameen ke liye
maza jab aaye ki ab paanv aasmaan pade

kisi makin ki aamad ke intizaar mein hain
mere mohalle mein khaali kai makaan pade

ये ख़ाक-ज़ादे जो रहते हैं बे-ज़बान पड़े
इशारा कर दें तो सूरज ज़मीं पे आन पड़े

सुकूत-ए-ज़ीस्त को आमादा-ए-बग़ावत कर
लहू उछाल कि कुछ ज़िंदगी में जान पड़े

हमारे शहर की बीनाइयों पे रोते हैं
तमाम शहर के मंज़र लहू-लुहान पड़े

उठे हैं हाथ मिरे हुर्मत-ए-ज़मीं के लिए
मज़ा जब आए कि अब पाँव आसमान पड़े

किसी मकीन की आमद के इंतिज़ार में हैं
मिरे मोहल्ले में ख़ाली कई मकान पड़े

- Rahat Indori
6 Likes

Masti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Masti Shayari Shayari