purane daanv par har din naye aansu lagata hai | पुराने दाँव पर हर दिन नए आँसू लगाता है - Rahat Indori

purane daanv par har din naye aansu lagata hai
vo ab bhi ik fate roomaal par khushboo lagata hai

use kah do ki ye unchaaiyaan mushkil se milti hain
vo suraj ke safar mein mom ke baazu lagata hai

main kaali raat ke tezaab se suraj banata hoon
meri chadar mein ye paivand ik jugnoo lagata hai

yahan lachhman ki rekha hai na seeta hai magar phir bhi
bahut phere hamaare ghar ke ik sadhu lagata hai

namaazen mustaqil pehchaan ban jaati hai chehron ki
tilak jis tarah maathe par koi hindu lagata hai

na jaane ye anokha farq is mein kis tarah aaya
vo ab collar mein phoolon ki jagah bichhoo lagata hai

andhere aur ujaale mein ye samjhauta zaroori hai
nishaane ham lagaate hain thikaane tu lagata hai

पुराने दाँव पर हर दिन नए आँसू लगाता है
वो अब भी इक फटे रूमाल पर ख़ुश्बू लगाता है

उसे कह दो कि ये ऊँचाइयाँ मुश्किल से मिलती हैं
वो सूरज के सफ़र में मोम के बाज़ू लगाता है

मैं काली रात के तेज़ाब से सूरज बनाता हूँ
मिरी चादर में ये पैवंद इक जुगनू लगाता है

यहाँ लछमन की रेखा है न सीता है मगर फिर भी
बहुत फेरे हमारे घर के इक साधू लगाता है

नमाज़ें मुस्तक़िल पहचान बन जाती है चेहरों की
तिलक जिस तरह माथे पर कोई हिन्दू लगाता है

न जाने ये अनोखा फ़र्क़ इस में किस तरह आया
वो अब कॉलर में फूलों की जगह बिच्छू लगाता है

अँधेरे और उजाले में ये समझौता ज़रूरी है
निशाने हम लगाते हैं ठिकाने तू लगाता है

- Rahat Indori
4 Likes

Aansoo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Aansoo Shayari Shayari