sirf khanjar hi nahin aankhon mein paani chahiye | सिर्फ़ ख़ंजर ही नहीं आँखों में पानी चाहिए - Rahat Indori

sirf khanjar hi nahin aankhon mein paani chahiye
ai khuda dushman bhi mujh ko khaandaani chahiye

shehar ki saari alif-lailaaein boodhi ho chuki
shahzaade ko koi taaza kahaani chahiye

main ne ai suraj tujhe pooja nahin samjha to hai
mere hisse mein bhi thodi dhoop aani chahiye

meri qeemat kaun de saka hai is bazaar mein
tum zulekha ho tumhein qeemat lagaani chahiye

zindagi hai ik safar aur zindagi ki raah mein
zindagi bhi aaye to thokar lagaani chahiye

main ne apni khushk aankhon se lahu chhalaka diya
ik samundar kah raha tha mujh ko paani chahiye

सिर्फ़ ख़ंजर ही नहीं आँखों में पानी चाहिए
ऐ ख़ुदा दुश्मन भी मुझ को ख़ानदानी चाहिए

शहर की सारी अलिफ़-लैलाएँ बूढ़ी हो चुकीं
शाहज़ादे को कोई ताज़ा कहानी चाहिए

मैं ने ऐ सूरज तुझे पूजा नहीं समझा तो है
मेरे हिस्से में भी थोड़ी धूप आनी चाहिए

मेरी क़ीमत कौन दे सकता है इस बाज़ार में
तुम ज़ुलेख़ा हो तुम्हें क़ीमत लगानी चाहिए

ज़िंदगी है इक सफ़र और ज़िंदगी की राह में
ज़िंदगी भी आए तो ठोकर लगानी चाहिए

मैं ने अपनी ख़ुश्क आँखों से लहू छलका दिया
इक समुंदर कह रहा था मुझ को पानी चाहिए

- Rahat Indori
31 Likes

Safar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Safar Shayari Shayari