ham ne khud apni rahnumaai ki | हम ने ख़ुद अपनी रहनुमाई की - Rahat Indori

ham ne khud apni rahnumaai ki
aur shohrat hui khudaai ki

main ne duniya se mujh se duniya ne
saikron baar bewafaai ki

khule rahte hain saare darwaaze
koi soorat nahin rihaai ki

toot kar ham mile hain pehli baar
ye shurua'at hai judaai ki

soye rahte hain odh kar khud ko
ab zaroorat nahin razaai ki

manzilen choomti hain mere qadam
daad deeje shikasta-paai ki

zindagi jaise-taise kaatni hai
kya bhalaai ki kya buraai ki

ishq ke kaarobaar mein ham ne
jaan de kar badi kamaai ki

ab kisi ki zabaan nahin khulti
rasm jaari hai munh-bharaai ki

हम ने ख़ुद अपनी रहनुमाई की
और शोहरत हुई ख़ुदाई की

मैं ने दुनिया से मुझ से दुनिया ने
सैकड़ों बार बेवफ़ाई की

खुले रहते हैं सारे दरवाज़े
कोई सूरत नहीं रिहाई की

टूट कर हम मिले हैं पहली बार
ये शुरूआ'त है जुदाई की

सोए रहते हैं ओढ़ कर ख़ुद को
अब ज़रूरत नहीं रज़ाई की

मंज़िलें चूमती हैं मेरे क़दम
दाद दीजे शिकस्ता-पाई की

ज़िंदगी जैसे-तैसे काटनी है
क्या भलाई की क्या बुराई की

इश्क़ के कारोबार में हम ने
जान दे कर बड़ी कमाई की

अब किसी की ज़बाँ नहीं खुलती
रस्म जारी है मुँह-भराई की

- Rahat Indori
6 Likes

Life Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Life Shayari Shayari