uthi nigaah to apne hi roo-b-roo ham the | उठी निगाह तो अपने ही रू-ब-रू हम थे - Rahat Indori

uthi nigaah to apne hi roo-b-roo ham the
zameen aaina-khaana thi chaar-soo ham the

dinon ke ba'ad achaanak tumhaara dhyaan aaya
khuda ka shukr ki us waqt ba-wazoo ham the

vo aaina to nahin tha par aaine sa tha
vo ham nahin the magar yaar hoo-b-hoo ham the

zameen pe ladte hue aasmaan ke narghe mein
kabhi kabhi koi dushman kabhu kabhu ham the

hamaara zikr bhi ab jurm ho gaya hai wahan
dinon ki baat hai mehfil ki aabroo ham the

khayal tha ki ye pathraav rok den chal kar
jo hosh aaya to dekha lahu lahu ham the

उठी निगाह तो अपने ही रू-ब-रू हम थे
ज़मीन आईना-ख़ाना थी चार-सू हम थे

दिनों के बा'द अचानक तुम्हारा ध्यान आया
ख़ुदा का शुक्र कि उस वक़्त बा-वज़ू हम थे

वो आईना तो नहीं था पर आईने सा था
वो हम नहीं थे मगर यार हू-ब-हू हम थे

ज़मीं पे लड़ते हुए आसमाँ के नर्ग़े में
कभी कभी कोई दुश्मन कभू कभू हम थे

हमारा ज़िक्र भी अब जुर्म हो गया है वहाँ
दिनों की बात है महफ़िल की आबरू हम थे

ख़याल था कि ये पथराव रोक दें चल कर
जो होश आया तो देखा लहू लहू हम थे

- Rahat Indori
7 Likes

Dosti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Dosti Shayari Shayari