yahi dua hai yahi hai salaam ishq b-khair | यही दुआ है यही है सलाम इश्क़ ब-ख़ैर - Rehman Faris

yahi dua hai yahi hai salaam ishq b-khair
mere sabhi rufqa-e-kiraam ishq b-khair

dayaar-e-hijr ki sooni udaas galiyon mein
pukaarta hai koi subh-o-shaam ishq b-khair

main kar raha tha dua ki guzaarishein us se
so kah gai hai udaasi ki shaam ishq b-khair

bade ajeeb hain shahr-e-junoon ke baashinde
hamesha kahte hain ba'd-az-salaam ishq b-khair

ye rah zaroor tumhaare hi ghar ko jaati hai
likha hua hai yahan gaam gaam ishq b-khair

bayaan ki hai ghazal-waar daastaan-e-ishq
so is kitaab ka rakha hai naam ishq b-khair

ufuq ke paar mujhe yaad kar raha hai koi
abhi mila hai udhar se payaam-e-ishq b-khair

यही दुआ है यही है सलाम इश्क़ ब-ख़ैर
मिरे सभी रुफ़क़ा-ए-किराम इश्क़ ब-ख़ैर

दयार-ए-हिज्र की सूनी उदास गलियों में
पुकारता है कोई सुब्ह-ओ-शाम इश्क़ ब-ख़ैर

मैं कर रहा था दुआ की गुज़ारिशें उस से
सो कह गई है उदासी की शाम इश्क़ ब-ख़ैर

बड़े अजीब हैं शहर-ए-जुनूँ के बाशिंदे
हमेशा कहते हैं बा'द-अज़-सलाम इश्क़ ब-ख़ैर

ये रह ज़रूर तुम्हारे ही घर को जाती है
लिखा हुआ है यहाँ गाम गाम इश्क़ ब-ख़ैर

बयान की है ग़ज़ल-वार दास्तान-ए-इश्क़
सो इस किताब का रक्खा है नाम इश्क़ ब-ख़ैर

उफ़ुक़ के पार मुझे याद कर रहा है कोई
अभी मिला है उधर से पयाम-ए-इश्क़ ब-ख़ैर

- Rehman Faris
2 Likes

Depression Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rehman Faris

As you were reading Shayari by Rehman Faris

Similar Writers

our suggestion based on Rehman Faris

Similar Moods

As you were reading Depression Shayari Shayari