khaak udti hai raat-bhar mujh mein | ख़ाक उड़ती है रात-भर मुझ में - Rehman Faris

khaak udti hai raat-bhar mujh mein
kaun firta hai dar-b-dar mujh mein

mujh ko khud mein jagah nahin milti
tu hai maujood is qadar mujh mein

mausam-e-giriya ek guzarish hai
gham ke pakne talak thehar mujh mein

be-ghari ab mera muqaddar hai
ishq ne kar liya hai ghar mujh mein

aap ka dhyaan khoon ke maanind
daudta hai idhar-udhar mujh mein

hausla ho to baat ban jaaye
hausla hi nahin magar mujh mein

ख़ाक उड़ती है रात-भर मुझ में
कौन फिरता है दर-ब-दर मुझ में

मुझ को ख़ुद में जगह नहीं मिलती
तू है मौजूद इस क़दर मुझ में

मौसम-ए-गिर्या एक गुज़ारिश है
ग़म के पकने तलक ठहर मुझ में

बे-घरी अब मिरा मुक़द्दर है
इश्क़ ने कर लिया है घर मुझ में

आप का ध्यान ख़ून के मानिंद
दौड़ता है इधर-उधर मुझ में

हौसला हो तो बात बन जाए
हौसला ही नहीं मगर मुझ में

- Rehman Faris
4 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rehman Faris

As you were reading Shayari by Rehman Faris

Similar Writers

our suggestion based on Rehman Faris

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari