sar-b-sar yaar ki marzi pe fida ho jaana | सर-ब-सर यार की मर्ज़ी पे फ़िदा हो जाना - Rehman Faris

sar-b-sar yaar ki marzi pe fida ho jaana
kya gazab kaam hai raazi-b-raza ho jaana

band aankhon vo chale aayein to vaa ho jaana
aur yun phoot ke rona ki fana ho jaana

ishq mein kaam nahin zor-zabardasti ka
jab bhi tum chaaho juda hona juda ho jaana

teri jaanib hai b-tadreej tarqqi meri
mere hone ki hai meraaj tira ho jaana

tere aane ki basharat ke siva kuch bhi nahin
baagh mein sukhe darakhton ka haraa ho jaana

ik nishaani hai kisi shehar ki barbaadi ki
naarwa baat ka yak-lakht rawa ho jaana

tang aa jaaun mohabbat se to gahe gahe
achha lagta hai mujhe tera khafa ho jaana

si diye jaayen mere hont to ai jaan-e-ghazal
aisa karna meri aankhon se ada ho jaana

be-niyaazi bhi wahi aur ta'alluq bhi wahi
tumhein aata hai mohabbat mein khuda ho jaana

azdaha ban ke rag-o-pai ko jakad leta hai
itna aasaan nahin gham se rihaa ho jaana

achhe achhon pe bure din hain lihaaza faaris
achhe hone se to achha hai bura ho jaana

सर-ब-सर यार की मर्ज़ी पे फ़िदा हो जाना
क्या ग़ज़ब काम है राज़ी-ब-रज़ा हो जाना

बंद आँखो वो चले आएँ तो वा हो जाना
और यूँ फूट के रोना कि फ़ना हो जाना

इश्क़ में काम नहीं ज़ोर-ज़बरदस्ती का
जब भी तुम चाहो जुदा होना जुदा हो जाना

तेरी जानिब है ब-तदरीज तरक़्क़ी मेरी
मेरे होने की है मेराज तिरा हो जाना

तेरे आने की बशारत के सिवा कुछ भी नहीं
बाग़ में सूखे दरख़्तों का हरा हो जाना

इक निशानी है किसी शहर की बर्बादी की
नारवा बात का यक-लख़्त रवा हो जाना

तंग आ जाऊँ मोहब्बत से तो गाहे गाहे
अच्छा लगता है मुझे तेरा ख़फ़ा हो जाना

सी दिए जाएँ मिरे होंट तो ऐ जान-ए-ग़ज़ल
ऐसा करना मिरी आँखों से अदा हो जाना

बे-नियाज़ी भी वही और तअ'ल्लुक़ भी वही
तुम्हें आता है मोहब्बत में ख़ुदा हो जाना

अज़दहा बन के रग-ओ-पै को जकड़ लेता है
इतना आसान नहीं ग़म से रिहा हो जाना

अच्छे अच्छों पे बुरे दिन हैं लिहाज़ा 'फ़ारिस'
अच्छे होने से तो अच्छा है बुरा हो जाना

- Rehman Faris
2 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rehman Faris

As you were reading Shayari by Rehman Faris

Similar Writers

our suggestion based on Rehman Faris

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari