kyun tire saath raheen umr basar hone tak | क्यूँ तिरे साथ रहीं उम्र बसर होने तक - Rehman Faris

kyun tire saath raheen umr basar hone tak
hum na dekhenge imarat ko khandar hone tak

tum to darwaaza khula dekh ke dar aaye ho
tum ne dekha nahin deewaar ko dar hone tak

chup raheen aah bharen cheekh uthe ya mar jaayen
kya karein be-khabro tum ko khabar hone tak

hum pe kar dhyaan are chaand ko takne waale
chaand ke paas to mohlat hai sehar hone tak

haal mat poochiye kuch baatein bataane ki nahin
bas dua kijeye duaon mein asar hone tak

sag-e-aawaara ke maanind mohabbat ke faqeer
dar-b-dar hote rahe shahr-badar hone tak

aap maali hain na suraj hain na mausam phir bhi
beej ko dekhte raheiga samar hone tak

dasht-e-khaamosh mein dam saadhe pada rehta hai
paanv ka pehla nishaan raah-guzar hone tak

faani hone se na ghabraaiye faaris ki humein
an-ginat martaba marna hai amar hone tak

क्यूँ तिरे साथ रहीं उम्र बसर होने तक
हम न देखेंगे इमारत को खंडर होने तक

तुम तो दरवाज़ा खुला देख के दर आए हो
तुम ने देखा नहीं दीवार को दर होने तक

चुप रहीं आह भरें चीख़ उठें या मर जाएँ
क्या करें बे-ख़बरो तुम को ख़बर होने तक

हम पे कर ध्यान अरे चाँद को तकने वाले
चाँद के पास तो मोहलत है सहर होने तक

हाल मत पोछिए कुछ बातें बताने की नहीं
बस दुआ कीजे दुआओं में असर होने तक

सग-ए-आवारा के मानिंद मोहब्बत के फ़क़ीर
दर-ब-दर होते रहे शहर-बदर होने तक

आप माली हैं न सूरज हैं न मौसम फिर भी
बीज को देखते रहिएगा समर होने तक

दश्त-ए-ख़ामोश में दम साधे पड़ा रहता है
पाँव का पहला निशाँ राह-गुज़र होने तक

फ़ानी होने से न घबराईए 'फ़ारिस' कि हमें
अन-गिनत मर्तबा मरना है अमर होने तक

- Rehman Faris
2 Likes

Terrorism Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rehman Faris

As you were reading Shayari by Rehman Faris

Similar Writers

our suggestion based on Rehman Faris

Similar Moods

As you were reading Terrorism Shayari Shayari