ishq ka zarf aazma to sahi | इश्क़ का ज़र्फ़ आज़मा तो सही - Rifat Sultan

ishq ka zarf aazma to sahi
tu nazar se nazar mila to sahi

mil hi jaayega zindagi ka suraagh
doston ke fareb kha to sahi

dil ko taskin na ho to main zaamin
tu kabhi may-kade mein aa to sahi

zeest ashkon mein dhal na jaaye kahin
dost ik baar muskuraa to sahi

zindagi ko sambhaalne waale
tu kabhi pee ke ladkhada to sahi

ham hi samjhe na mudd'a rif'at
unki nazaron ne kuchh kaha to sahi

इश्क़ का ज़र्फ़ आज़मा तो सही
तू नज़र से नज़र मिला तो सही

मिल ही जाएगा ज़िन्दगी का सुराग़
दोस्तों के फ़रेब खा तो सही

दिल को तस्कीं न हो तो मैं ज़ामिन
तू कभी मय-कदे में आ तो सही

ज़ीस्त अश्क़ों में ढल न जाए कहीं
दोस्त इक बार मुस्कुरा तो सही

ज़िन्दगी को सँभालने वाले
तू कभी पी के लड़खड़ा तो सही

हम ही समझे न मुद्द'आ 'रिफ़अत'
उनकी नज़रों ने कुछ कहा तो सही

- Rifat Sultan
1 Like

Similar Writers

our suggestion based on Rifat Sultan

Similar Moods

As you were reading undefined Shayari