hamein pinjare mein par bheje gaye hain | हमें पिंजरे में पर भेजे गए हैं - Ruqayyah Maalik

hamein pinjare mein par bheje gaye hain
ye tohfe soch kar bheje gaye hain

tumhaare hizr se achhi vaba hai
kam-az-kam log ghar bheje gaye hain

ye kis vehshat se shaakhein kaanpati hain
parinde kis nagar bheje gaye hain

ham ab ki baar jab usse mile to
laga ki kaam par bheje gaye hain

kahaan usne farishte bhejne the
kahaan ye jaanwar bheje gaye hain

palang peetal ke bartan reet rasmen
kisi nilaamghar bheje gaye hain

हमें पिंजरे में पर भेजे गए हैं
ये तोहफ़े सोच कर भेजे गए हैं

तुम्हारे हिज़्र से अच्छी वबा है
कम-अज़-कम लोग घर भेजे गए हैं

ये किस वहशत से शाखें काँपती हैं
परिन्दे किस नगर भेजे गए हैं

हम अब की बार जब उससे मिले तो
लगा कि काम पर भेजे गए हैं

कहाँ उसने फ़रिश्ते भेजने थे
कहाँ ये जानवर भेजे गए हैं

पलँग पीतल के बर्तन रीत रस्में
किसी निलामघर भेजे गए हैं

- Ruqayyah Maalik
1 Like

Tohfa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ruqayyah Maalik

As you were reading Shayari by Ruqayyah Maalik

Similar Writers

our suggestion based on Ruqayyah Maalik

Similar Moods

As you were reading Tohfa Shayari Shayari