kisi ajeeb si vehshat se saans kheenchte hain | किसी अजीब सी वहशत से साँस खींचते हैं - Ruqayyah Maalik

kisi ajeeb si vehshat se saans kheenchte hain
ham aise log mushakkat se saans kheenchte hain

vo jin dinon mein muhabbat se haath kheenchta hai
ham un dinon mein sahoolat se saans kheenchte hain

unhen ye khul ke batao tumhaari kaun hoon main
tumhein jo dekh ke hasrat se saans kheenchte hain

kabhi ye saare parinde the aandhiyon ke khilaaf
aur ab hawa ki ijaazat se saans kheenchte hain

gaye dinon ke tilasmi kiwaar mat kholo
ham is hawa mein aziyyat se saans kheenchte hain

किसी अजीब सी वहशत से साँस खींचते हैं
हम ऐसे लोग मुशक्कत से साँस खींचते हैं

वो जिन दिनों में मुहब्बत से हाथ खींचता है
हम उन दिनों में सहूलत से साँस खींचते हैं

उन्हें ये खुल के बताओ तुम्हारी कौन हूँ मैं
तुम्हें जो देख के हसरत से साँस खींचते हैं

कभी ये सारे परिन्दे थे आँधियों के ख़िलाफ़
और अब हवा की इजाज़त से साँस खींचते हैं

गए दिनों के तिलस्मी किवाड़ मत खोलो
हम इस हवा में अज़िय्यत से साँस खींचते हैं

- Ruqayyah Maalik
1 Like

Nature Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ruqayyah Maalik

As you were reading Shayari by Ruqayyah Maalik

Similar Writers

our suggestion based on Ruqayyah Maalik

Similar Moods

As you were reading Nature Shayari Shayari