har tarah ke jazbaat ka elaan hain aankhen | हर तरह के जज़्बात का एलान हैं आँखें - Sahir Ludhianvi

har tarah ke jazbaat ka elaan hain aankhen
shabnam kabhi shola kabhi toofaan hain aankhen

aankhon se badi koi taraazu nahin hoti
tulta hai bashar jis mein vo mizaan hain aankhen

aankhen hi milaati hain zamaane mein dilon ko
anjaan hain hum tum agar anjaan hain aankhen

lab kuch bhi kahein is se haqeeqat nahin khulti
insaan ke sach jhooth ki pehchaan hain aankhen

aankhen na jhuki teri kisi gair ke aage
duniya mein badi cheez meri jaan hain aankhen

हर तरह के जज़्बात का एलान हैं आँखें
शबनम कभी शोला कभी तूफ़ान हैं आँखें

आँखों से बड़ी कोई तराज़ू नहीं होती
तुलता है बशर जिस में वो मीज़ान हैं आँखें

आँखें ही मिलाती हैं ज़माने में दिलों को
अंजान हैं हम तुम अगर अंजान हैं आँखें

लब कुछ भी कहें इस से हक़ीक़त नहीं खुलती
इंसान के सच झूट की पहचान हैं आँखें

आँखें न झुकीं तेरी किसी ग़ैर के आगे
दुनिया में बड़ी चीज़ मिरी जान! हैं आँखें

- Sahir Ludhianvi
4 Likes

Mehboob Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sahir Ludhianvi

As you were reading Shayari by Sahir Ludhianvi

Similar Writers

our suggestion based on Sahir Ludhianvi

Similar Moods

As you were reading Mehboob Shayari Shayari