gaye the jang ladne jo kai lashkar nahin laute | गए थे जंग लड़ने जो कई लश्कर नहीं लौटे - Santosh S Singh

gaye the jang ladne jo kai lashkar nahin laute
kai ke shav nahin laute kai ke sar nahin laute

tumhaari baat par aakhir yaqeen kar luun magar kaise
kaha tha laut aaoge magar kah kar nahin laute

parinde shaam hote hi ghar apne laut aate hain
hamaari umr guzri hai abhi tak ghar nahin laute

tabassum ye tera mujhko tujhi tak kheench laata hai
tujhe to khoob chaaha par tere hokar nahin laute

hamaare dil mein bas jaao mohabbat seekh jaaoge
jo patthar dil bhi aaye the vo dil patthar nahin laute

गए थे जंग लड़ने जो कई लश्कर नहीं लौटे
कई के शव नहीं लौटे कई के सर नहीं लौटे

तुम्हारी बात पर आख़िर यक़ीं कर लूँ मगर कैसे
कहा था लौट आओगे मगर कह कर नहीं लौटे

परिंदे शाम होते ही घर अपने लौट आते हैं
हमारी उम्र गुज़री है अभी तक घर नहीं लौटे

तबस्सुम ये तेरा मुझको तुझी तक खींच लाता है
तुझे तो ख़ूब चाहा पर तेरे होकर नहीं लौटे

हमारे दिल में बस जाओ मोहब्बत सीख जाओगे
जो पत्थर दिल भी आए थे वो दिल पत्थर नहीं लौटे

- Santosh S Singh
2 Likes

Faith Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Santosh S Singh

As you were reading Shayari by Santosh S Singh

Similar Writers

our suggestion based on Santosh S Singh

Similar Moods

As you were reading Faith Shayari Shayari