bada hai dukh so haasil hai ye aasaani mujhe | बड़ा है दुख सो हासिल है ये आसानी मुझे - Shariq Kaifi

bada hai dukh so haasil hai ye aasaani mujhe
ki himmat hi nahin kuchh yaad karne ki mujhe

chala aata hai chupke se razaai mein meri
buri lagti hai suraj ki ye bebaki mujhe

chhupata phir raha hoon khud ko main kis se yahan
agar pehchaanne waala nahin koi mujhe

guzar jaayegi saari zindagi ummeed mein
na jeene degi ye jeene ki tayyaari mujhe

agar kam bolta hoon main to kyun bechain ho
tumheen se to lagi hai chup ki beemaari mujhe

achaanak kuchh hua hota to koi baat thi
na jaane kyun hui is darja hairaani mujhe

बड़ा है दुख सो हासिल है ये आसानी मुझे
कि हिम्मत ही नहीं कुछ याद करने की मुझे

चला आता है चुपके से रज़ाई में मिरी
बुरी लगती है सूरज की ये बेबाकी मुझे

छुपाता फिर रहा हूँ ख़ुद को मैं किस से यहाँ
अगर पहचानने वाला नहीं कोई मुझे

गुज़र जाएगी सारी ज़िंदगी उम्मीद में
न जीने देगी ये जीने की तय्यारी मुझे

अगर कम बोलता हूँ मैं तो क्यूँ बेचैन हो
तुम्हीं से तो लगी है चुप की बीमारी मुझे

अचानक कुछ हुआ होता तो कोई बात थी
न जाने क्यूँ हुई इस दर्जा हैरानी मुझे

- Shariq Kaifi
2 Likes

Ummeed Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Ummeed Shayari Shayari