hain ab is fikr mein doobe hue ham | हैं अब इस फ़िक्र में डूबे हुए हम - Shariq Kaifi

hain ab is fikr mein doobe hue ham
use kaise lage rote hue ham

koi dekhe na dekhe saalha-saal
hifazat se magar rakhe hue ham

na jaane kaun si duniya mein gum hain
kisi beemaar ki sunte hue ham

rahe jis ki masihaai mein ab tak
usi ke chaaragar hote hue ham

giran thi saaye ki maujoodgi bhi
ab apne aap se sahme hue ham

kahaan hain khwaab mein dekhe jazeera
nikal aaye kidhar bahte hue ham

badhin nazdeekiyaan is darja khud se
ki ab us ka badal hote hue ham

rakhen kyunkar hisaab ek ek pal ka
bala se roz kam hote hue ham

bahut himmat ka hai ye kaam sharik
ki sharmate nahin darte hue ham

हैं अब इस फ़िक्र में डूबे हुए हम
उसे कैसे लगे रोते हुए हम

कोई देखे न देखे सालहा-साल
हिफ़ाज़त से मगर रक्खे हुए हम

न जाने कौन सी दुनिया में गुम हैं
किसी बीमार की सुनते हुए हम

रहे जिस की मसीहाई में अब तक
उसी के चारागर होते हुए हम

गिराँ थी साए की मौजूदगी भी
अब अपने आप से सहमे हुए हम

कहाँ हैं ख़्वाब में देखे जज़ीरे
निकल आए किधर बहते हुए हम

बढ़ीं नज़दीकियाँ इस दर्जा ख़ुद से
कि अब उस का बदल होते हुए हम

रखें क्यूँकर हिसाब एक एक पल का
बला से रोज़ कम होते हुए हम

बहुत हिम्मत का है ये काम 'शारिक़'
कि शरमाते नहीं डरते हुए हम

- Shariq Kaifi
1 Like

Fantasy Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Fantasy Shayari Shayari