ye kuchh badlaav sa achha laga hai | ये कुछ बदलाव सा अच्छा लगा है - Shariq Kaifi

ye kuchh badlaav sa achha laga hai
hamein ik doosra achha laga hai

samajhna hai use nazdeek ja kar
jise mujh sa bura achha laga hai

ye kya har waqt jeene ki duaaein
yahan aisa bhi kya achha laga hai

safar to zindagi bhar ka hai lekin
ye waqfa sa zara achha laga hai

meri nazrein bhi hain ab aasmaan par
koi mahv-e-dua achha laga hai

hue barbaad jis ke ishq mein ham
vo ab ja kar zara achha laga hai

vo suraj jo mera dushman tha din bhar
mujhe dhalt hua achha laga hai

koi pooche to kya batlaayenge ham
ki is manzar mein kya achha laga hai

ये कुछ बदलाव सा अच्छा लगा है
हमें इक दूसरा अच्छा लगा है

समझना है उसे नज़दीक जा कर
जिसे मुझ सा बुरा अच्छा लगा है

ये क्या हर वक़्त जीने की दुआएँ
यहाँ ऐसा भी क्या अच्छा लगा है

सफ़र तो ज़िंदगी भर का है लेकिन
ये वक़्फ़ा सा ज़रा अच्छा लगा है

मिरी नज़रें भी हैं अब आसमाँ पर
कोई महव-ए-दुआ अच्छा लगा है

हुए बरबाद जिस के इश्क़ में हम
वो अब जा कर ज़रा अच्छा लगा है

वो सूरज जो मिरा दुश्मन था दिन भर
मुझे ढलता हुआ अच्छा लगा है

कोई पूछे तो क्या बतलाएँगे हम
कि इस मंज़र में क्या अच्छा लगा है

- Shariq Kaifi
1 Like

Safar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Safar Shayari Shayari