sach to baith ke khaata hai | सच तो बैठ के खाता है - Shariq Kaifi

sach to baith ke khaata hai
jhooth kama kar laata hai

yaad bhi koi aata hai
yaad to rakkh jaata hai

jaise lafz hon waisa hi
munh ka maza ho jaata hai

phir dushman badh jaayenge
kis ko dost banata hai

kaisi khushk hawaayein hain
subh se din chadh jaata hai

use ghatta kar duniya mein
baaki kya rah jaata hai

jaane vo is chehre par
kis ka dhoka khaata hai

ishq se badh kar kaun humein
duniyadaar banata hai

dil jaisa maasoom bhi aaj
apni aql chalaata hai

kuch to hai jo sirf yahaan
meri samajh mein aata hai

mushkil sun li jaati hai
koi karam farmaata hai

सच तो बैठ के खाता है
झूठ कमा कर लाता है

याद भी कोई आता है
याद तो रक्ख जाता है

जैसे लफ़्ज़ हों वैसा ही
मुंह का मज़ा हो जाता है

फिर दुश्मन बढ़ जाएंगे
किस को दोस्त बनाता है

कैसी ख़ुश्क हवाएं हैं
सुब्ह से दिन चढ़ जाता है

उसे घटा कर दुनिया में
बाक़ी क्या रह जाता है

जाने वो इस चेहरे पर
किस का धोका खाता है

इश्क़ से बढ़ कर कौन हमें
दुनियादार बनाता है

दिल जैसा मासूम भी आज
अपनी अक़्ल चलाता है

कुछ तो है जो सिर्फ़ यहां
मेरी समझ में आता है

मुश्किल सुन ली जाती है
कोई करम फ़रमाता है

- Shariq Kaifi
1 Like

Sach Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Sach Shayari Shayari