kuchh qadam aur mujhe jism ko dhona hai yahan | कुछ क़दम और मुझे जिस्म को ढोना है यहाँ - Shariq Kaifi

kuchh qadam aur mujhe jism ko dhona hai yahan
saath laaya hoon usi ko jise khona hai yahan

bheed chhat jaayegi pal mein ye khabar udte hi
ab koi aur tamasha nahin hona hai yahan

ye bhanwar kaun sa moti mujhe de saka hai
baat ye hai ki mujhe khud ko dubona hai yahan

kya mila dasht mein aa kar tire deewane ko
ghar ke jaisa hi agar jaagna sona hai yahan

kuchh bhi ho jaaye na maanoonga magar jism ki baat
aaj mujrim to kisi aur ko hona hai yahan

yun bhi darkaar hai mujh ko kisi beenaai ka lams
ab kisi aur ka hona mera hona hai yahan

ashk palkon pe saja luun main abhi se sharik
shab hai baaki to tira zikr bhi hona hai yahan

कुछ क़दम और मुझे जिस्म को ढोना है यहाँ
साथ लाया हूँ उसी को जिसे खोना है यहाँ

भीड़ छट जाएगी पल में ये ख़बर उड़ते ही
अब कोई और तमाशा नहीं होना है यहाँ

ये भँवर कौन सा मोती मुझे दे सकता है
बात ये है कि मुझे ख़ुद को डुबोना है यहाँ

क्या मिला दश्त में आ कर तिरे दीवाने को
घर के जैसा ही अगर जागना सोना है यहाँ

कुछ भी हो जाए न मानूँगा मगर जिस्म की बात
आज मुजरिम तो किसी और को होना है यहाँ

यूँ भी दरकार है मुझ को किसी बीनाई का लम्स
अब किसी और का होना मिरा होना है यहाँ

अश्क पलकों पे सजा लूँ मैं अभी से 'शारिक़'
शब है बाक़ी तो तिरा ज़िक्र भी होना है यहाँ

- Shariq Kaifi
1 Like

Badan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Badan Shayari Shayari