jo kehta hai ki dariya dekh aaya | जो कहता है कि दरिया देख आया - Shariq Kaifi

jo kehta hai ki dariya dekh aaya
galat mausam mein sehra dekh aaya

dagar aur manzilen to ek si theen
vo phir mujh se juda kya dekh aaya

har ik manzar ke pas-e-manzar the itne
bahut kuchh be-iraada dekh aaya

kisi ko khaak de kar aa raha hoon
zameen ka asal chehra dekh aaya

ruka mehfil mein itni der tak main
ujaalon ka budhaapa dekh aaya

tasalli ab hui kuchh dil ko mere
tiri galiyon ko soona dekh aaya

tamaashaai mein jaan atki hui thi
palat kar phir kinaara dekh aaya

bahut gadla tha paani is nadi ka
magar main apna chehra dekh aaya

main is hairat mein shaamil hoon to kaise
na jaane vo kahaan kya dekh aaya

vo manzar daaimi itna haseen tha
ki main hi kuchh ziyaada dekh aaya

जो कहता है कि दरिया देख आया
ग़लत मौसम में सहरा देख आया

डगर और मंज़िलें तो एक सी थीं
वो फिर मुझ से जुदा क्या देख आया

हर इक मंज़र के पस-ए-मंज़र थे इतने
बहुत कुछ बे-इरादा देख आया

किसी को ख़ाक दे कर आ रहा हूँ
ज़मीं का असल चेहरा देख आया

रुका महफ़िल में इतनी देर तक मैं
उजालों का बुढ़ापा देख आया

तसल्ली अब हुई कुछ दिल को मेरे
तिरी गलियों को सूना देख आया

तमाशाई में जाँ अटकी हुई थी
पलट कर फिर किनारा देख आया

बहुत गदला था पानी इस नदी का
मगर मैं अपना चेहरा देख आया

मैं इस हैरत में शामिल हूँ तो कैसे
न जाने वो कहाँ क्या देख आया

वो मंज़र दाइमी इतना हसीं था
कि मैं ही कुछ ज़ियादा देख आया

- Shariq Kaifi
0 Likes

Sad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Sad Shayari Shayari