khwaab vaise to ik inaayat hai | ख़्वाब वैसे तो इक इनायत है - Shariq Kaifi

khwaab vaise to ik inaayat hai
aankh khul jaaye to museebat hai

jism aaya kisi ke hisse mein
dil kisi aur ki amaanat hai

jaan dene ka waqt aa hi gaya
is tamaashe ke ba'ad furqat hai

umr bhar jis ke mashwaron pe chale
vo pareshaan hai to hairat hai

ab sanwarne ka waqt us ko nahin
jab hamein dekhne ki furqat hai

us pe utne hi rang khulte hain
jis ki aankhon mein jitni hairat hai

ख़्वाब वैसे तो इक इनायत है
आँख खुल जाए तो मुसीबत है

जिस्म आया किसी के हिस्से में
दिल किसी और की अमानत है

जान देने का वक़्त आ ही गया
इस तमाशे के बा'द फ़ुर्सत है

उम्र भर जिस के मश्वरों पे चले
वो परेशान है तो हैरत है

अब सँवरने का वक़्त उस को नहीं
जब हमें देखने की फ़ुर्सत है

उस पे उतने ही रंग खुलते हैं
जिस की आँखों में जितनी हैरत है

- Shariq Kaifi
1 Like

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari