gham is ka kuchh nahin hai ki main kaam aa gaya | ग़म इस का कुछ नहीं है कि मैं काम आ गया - Tahir Faraz

gham is ka kuchh nahin hai ki main kaam aa gaya
gham ye hai qaatilon mein tira naam aa gaya

jugnoo jale bujhe meri palkon pe subh tak
jab bhi tira khayal sar-e-shaam aa gaya

mehsoos kar raha hoon main khushboo ki baazgasht
shaayad tire labon pe mera naam aa gaya

kuchh doston ne poocha batao ghazal hai kya
be-saakhta labon pe tira naam aa gaya

main ne to ek laash ki di thi khabar faraaz
ulta mujhi pe qatl ka ilzaam aa gaya

ग़म इस का कुछ नहीं है कि मैं काम आ गया
ग़म ये है क़ातिलों में तिरा नाम आ गया

जुगनू जले बुझे मिरी पलकों पे सुब्ह तक
जब भी तिरा ख़याल सर-ए-शाम आ गया

महसूस कर रहा हूँ मैं ख़ुशबू की बाज़गश्त
शायद तिरे लबों पे मिरा नाम आ गया

कुछ दोस्तों ने पूछा बताओ ग़ज़ल है क्या
बे-साख़्ता लबों पे तिरा नाम आ गया

मैं ने तो एक लाश की दी थी ख़बर 'फ़राज़'
उल्टा मुझी पे क़त्ल का इल्ज़ाम आ गया

- Tahir Faraz
1 Like

Tasawwur Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tahir Faraz

As you were reading Shayari by Tahir Faraz

Similar Writers

our suggestion based on Tahir Faraz

Similar Moods

As you were reading Tasawwur Shayari Shayari