mein na kehta tha ki shehron mein na ja yaar mere | में न कहता था कि शहरों में न जा यार मिरे - Tahir Faraz

mein na kehta tha ki shehron mein na ja yaar mere
sondhi mitti hi mein hoti hai wafa yaar mere

koi toote hue khwaabon se kahaan milta hai
har jagah dard ka bistar na laga yaar mere

silsila phir se juda hai to juda rahne de
dil ke rishton ko tamasha na bana yaar mere

apni chaahat ke shab-o-roz mukammal kar le
ja ye suraj bhi tire naam kiya yaar mere

tujh se milta hoon to rishta koi yaad aata hai
silsila mujh se ziyaada na badha yaar mere

aisa lagta hai ki kuchh toot raha hai mujh mein
chhod ke tu mujhe is waqt na ja yaar mere

khush-naseebi se ye sa'at tire haath aayi hai
aasmaan jhukne laga haath badha yaar mere

में न कहता था कि शहरों में न जा यार मिरे
सोंधी मिट्टी ही में होती है वफ़ा यार मिरे

कोई टूटे हुए ख़्वाबों से कहाँ मिलता है
हर जगह दर्द का बिस्तर न लगा यार मिरे

सिलसिला फिर से जुड़ा है तो जुड़ा रहने दे
दिल के रिश्तों को तमाशा न बना यार मिरे

अपनी चाहत के शब-ओ-रोज़ मुकम्मल कर ले
जा ये सूरज भी तिरे नाम किया यार मिरे

तुझ से मिलता हूँ तो रिश्ता कोई याद आता है
सिलसिला मुझ से ज़ियादा न बढ़ा यार मिरे

ऐसा लगता है कि कुछ टूट रहा है मुझ में
छोड़ के तू मुझे इस वक़्त न जा यार मिरे

ख़ुश-नसीबी से ये साअ'त तिरे हाथ आई है
आसमाँ झुकने लगा हाथ बढ़ा यार मिरे

- Tahir Faraz
0 Likes

Dard Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tahir Faraz

As you were reading Shayari by Tahir Faraz

Similar Writers

our suggestion based on Tahir Faraz

Similar Moods

As you were reading Dard Shayari Shayari