the jitne khushnuma manzar badalte ja rahe hain | थे जितने ख़ुशनुमा मंज़र बदलते जा रहे हैं - Tahir Faraz

the jitne khushnuma manzar badalte ja rahe hain
hamaare ahad ke mahtaab dhalti ja rahe hain

safar mein kuchh na kuchh to bhool mujhse bhi hui hai
jo peeche the mere aage nikalte ja rahe hain

koi suraj mere andar utarta ja raha hai
jame dariya bhi aankhon ke pighalte ja rahe hain

hua hai hukm chalne ka adhoore khwaab le kar
kai bedaar-e-shab aankhon ko malte ja rahe hain

ab uski guftagoo mein bhi takalluf aa gaya hai
so ab ham bhi mohabbat mein sambhalte ja rahe hain

hamein ik phool ki khushboo se nisbat ho gai thi
nateeja ye hai ab kaanton pe chalte ja rahe hain

mere ghar mujh ko pahunchaane mere ahbaab saare
liye jaate hai par kaandhe badalte ja rahe hain

थे जितने ख़ुशनुमा मंज़र बदलते जा रहे हैं
हमारे अहद के महताब ढलते जा रहे हैं

सफ़र में कुछ न कुछ तो भूल मुझसे भी हुई है
जो पीछे थे मिरे आगे निकलते जा रहे हैं

कोई सूरज मिरे अंदर उतरता जा रहा है
जमे दरिया भी आँखों के पिघलते जा रहे हैं

हुआ है हुक्म चलने का अधूरे ख़्वाब ले कर
कई बेदार-ए-शब आँखों को मलते जा रहे हैं

अब उसकी गुफ़्तगू में भी तकल्लुफ़ आ गया है
सो अब हम भी मोहब्बत में सॅंभलते जा रहे हैं

हमें इक फूल की ख़ुशबू से निस्बत हो गई थी
नतीजा ये है अब काँटों पे चलते जा रहे हैं

मिरे घर मुझ को पहुॅंचाने मिरे अहबाब सारे
लिए जाते है पर कांधे बदलते जा रहे हैं

- Tahir Faraz
3 Likes

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tahir Faraz

As you were reading Shayari by Tahir Faraz

Similar Writers

our suggestion based on Tahir Faraz

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari