ajeeb ham hain sabab ke baghair chahte hain | अजीब हम हैं सबब के बग़ैर चाहते हैं - Tahir Faraz

ajeeb ham hain sabab ke baghair chahte hain
tumhein tumhaari talab ke baghair chahte hain

faqeer vo hain jo allah tere bandon ko
har imtiyaaz-e-nasb ke baghair chahte hain

maza to ye hai unhen bhi nawaazta hai rab
jo is jahaan ko rab ke baghair chahte hain

nahin hai khel koi un se guftugoo karna
sukhun vo jumbish-e-lab ke baghair chahte hain

thathurti raat mein chadar bhi jin ke paas nahin
vo din nikaalna shab ke baghair chahte hain

jamee hai gard siyaasat ki jin ke zehnon par
mushaaira bhi adab ke baghair chahte hain

hai e'timaad unhen khud par ghuroor ki had tak
akela jeena jo sab ke baghair chahte hain

अजीब हम हैं सबब के बग़ैर चाहते हैं
तुम्हें तुम्हारी तलब के बग़ैर चाहते हैं

फ़क़ीर वो हैं जो अल्लाह तेरे बंदों को
हर इम्तियाज़-ए-नसब के बग़ैर चाहते हैं

मज़ा तो ये है उन्हें भी नवाज़ता है रब
जो इस जहान को रब के बग़ैर चाहते हैं

नहीं है खेल कोई उन से गुफ़्तुगू करना
सुख़न वो जुम्बिश-ए-लब के बग़ैर चाहते हैं

ठठुरती रात में चादर भी जिन के पास नहीं
वो दिन निकालना शब के बग़ैर चाहते हैं

जमी है गर्द सियासत की जिन के ज़ेहनों पर
मुशाएरा भी अदब के बग़ैर चाहते हैं

है ए'तिमाद उन्हें ख़ुद पर ग़ुरूर की हद तक
अकेले जीना जो सब के बग़ैर चाहते हैं

- Tahir Faraz
0 Likes

Khuda Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tahir Faraz

As you were reading Shayari by Tahir Faraz

Similar Writers

our suggestion based on Tahir Faraz

Similar Moods

As you were reading Khuda Shayari Shayari