kitni raatein kaat chuka hoon par vo vasl ka din | कितनी रातें काट चुका हूँ पर वो वस्ल का दिन - Tehzeeb Hafi

kitni raatein kaat chuka hoon par vo vasl ka din
is dariya se pehle kitne jungle aate hain

hamein to neend bhi aati hai to aadhi aati hai
vo kaise hain jinko khwaab mukammal aate hain

is raaste par ped bhi aate hain usne poocha
jal kar khushboo dene waale sandal aate hain

kaun hai jo is dil mein khaamoshi se utarega
dekho is awaaz pe kitne paagal aate hain

ik se bharr kar ek sawaari asp-o-feel bhi hai
jaane kyun ham teri zaanib paidal aate hain

कितनी रातें काट चुका हूँ पर वो वस्ल का दिन
इस दरिया से पहले कितने जंगल आते हैं

हमें तो नींद भी आती है तो आधी आती है
वो कैसे हैं जिनको ख़्वाब मुकम्मल आते हैं

इस रस्ते पर पेड़ भी आते हैं उसने पूछा
जल कर ख़ुशबू देने वाले संदल आते हैं

कौन है जो इस दिल में ख़ामोशी से उतरेगा
देखो इस आवाज़ पे कितने पागल आते हैं

इक से भड़ कर एक सवारी अस्प-औ-फील भी है
जाने क्यों हम तेरी ज़ानिब पैदल आते हैं

- Tehzeeb Hafi
42 Likes

Kashmir Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Kashmir Shayari Shayari