kadam rakhta hai jab raaston pe yaar aahista aahista | कदम रखता है जब रास्तों पे यार आहिस्ता आहिस्ता - Tehzeeb Hafi

kadam rakhta hai jab raaston pe yaar aahista aahista
to chhat jaata hai sab gard-o-gubaar aahista aahista

bhari aankhon se hokar dil mein jaana sain thode hi hai
chadhe daryaon ko karte hain paar aahista aahista

nazar aata hai to yun dekhta jaata hoon mai usko
ki chal padta hai kaarobaar aahista aahista

tera paikar khuda ne bhi fursat mein banaya tha
banaayega tere jewar sunaar aahista aahista

vo kehta hai hamaare paas aao par saleeke se
ke jaise aage badhti hai kataar aahista aahista

idhar kuch auratein darwaaze par daudi hui aayi
udhar ghodon se utre shehsawaar aahista aahista

कदम रखता है जब रास्तों पे यार आहिस्ता आहिस्ता
तो छट जाता है सब गर्द-ओ-गुबार आहिस्ता आहिस्ता

भरी आँखों से होकर दिल में जाना सैन थोड़े ही है
चढ़े दरियाओं को करते हैं पार आहिस्ता आहिस्ता

नज़र आता है तो यूँ देखता जाता हूँ मै उसको
की चल पड़ता है कारोबार आहिस्ता आहिस्ता

तेरा पैकर खुदा ने भी फ़ुर्सत में बनाया था
बनाएगा तेरे जेवर सुनार आहिस्ता आहिस्ता

वो कहता है हमारे पास आओ पर सलीके से
के जैसे आगे बढ़ती है कतार आहिस्ता आहिस्ता

इधर कुछ औरतें दरवाजे पर दौड़ी हुई आयी
उधर घोड़ों से उतरे शहसवार आहिस्ता आहिस्ता

- Tehzeeb Hafi
29 Likes

Khuda Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Khuda Shayari Shayari