haan ye sach hai ki mohabbat nahin ki | हां ये सच है कि मोहब्बत नहीं की - Tehzeeb Hafi

haan ye sach hai ki mohabbat nahin ki
dost bas meri tabiyat nahin ki

isliye gaanv main sailaab aaya
hamne daryaao ki izzat nahin ki

jism tak usne mujhe saunp diya
dil ne is par bhi kanaayat nahin ki

mere ejaz mein rakhi gai thi
maine jis bazm mein shirkat nahin ki

yaad bhi yaad se rakha usko
bhool jaane mein bhi gafalat nahin ki

usko dekha tha ajab haalat mein
phir kabhi uski hifaazat nahin ki

ham agar fatah hue hai to kya
ishq ne kis pe hukoomat nahin ki

हां ये सच है कि मोहब्बत नहीं की
दोस्त बस मेरी तबीयत नहीं की

इसलिए गांव मैं सैलाब आया
हमने दरियाओ की इज्जत नहीं की

जिस्म तक उसने मुझे सौंप दिया
दिल ने इस पर भी कनायत नहीं की

मेरे एजाज़ में रखी गई थी
मैने जिस बज़्म में शिरकत नहीं की

याद भी याद से रखा उसको
भूल जाने में भी गफलत नहीं की

उसको देखा था अजब हालत में
फिर कभी उसकी हिफाज़त नहीं की

हम अगर फतह हुए है तो क्या
इश्क ने किस पे हकूमत नहीं की

- Tehzeeb Hafi
64 Likes

Kamar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Kamar Shayari Shayari