Aasif Buldhanvi

Aasif Buldhanvi

जला न पाएगा वो चाह कर भी आज मुझे
कि आज चश्म-ए-आतिश मे रौशनी कम है

  • Sher

More Writers like Aasif Buldhanvi

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals