tumhaare gham se tauba kar raha hoon | तुम्हारे ग़म से तौबा कर रहा हूँ - Zubair Ali Tabish

tumhaare gham se tauba kar raha hoon
ta'ajjub hai main aisa kar raha hoon

hai apne haath mein apna girebaan
na jaane kis se jhagda kar raha hoon

bahut se band taale khul rahe hain
tire sab khat ikattha kar raha hoon

koi titli nishaane par nahin hai
main bas rangon ka peecha kar raha hoon

main rasman kah raha hoon phir milenge
ye mat samjho ki vaada kar raha hoon

mere ahbaab saare shehar mein hain
main apne gaav mein kya kar raha hoon

meri har ik ghazal asli hai sahab
kai barson se dhanda kar raha hoon

तुम्हारे ग़म से तौबा कर रहा हूँ
तअ'ज्जुब है मैं ऐसा कर रहा हूँ

है अपने हाथ में अपना गिरेबाँ
न जाने किस से झगड़ा कर रहा हूँ

बहुत से बंद ताले खुल रहे हैं
तिरे सब ख़त इकट्ठा कर रहा हूँ

कोई तितली निशाने पर नहीं है
मैं बस रंगों का पीछा कर रहा हूँ

मैं रस्मन कह रहा हूँ फिर मिलेंगे
ये मत समझो कि वादा कर रहा हूँ

मिरे अहबाब सारे शहर में हैं
मैं अपने गाँव में क्या कर रहा हूँ

मिरी हर इक ग़ज़ल असली है साहब
कई बरसों से धंदा कर रहा हूँ

- Zubair Ali Tabish
33 Likes

Shahr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Zubair Ali Tabish

As you were reading Shayari by Zubair Ali Tabish

Similar Writers

our suggestion based on Zubair Ali Tabish

Similar Moods

As you were reading Shahr Shayari Shayari