meri parchhaaiyaan gum hain meri pehchaan baqi hai | मेरी परछाइयां गुम हैं मेरी पहचान बाक़ी है - Abbas Qamar

meri parchhaaiyaan gum hain meri pehchaan baqi hai
safar dam todne ko hai magar samaan baqi hai

abhi to khwahishon ke darmiyaan ghamsaan baqi hai
abhi is jism-e-faani mein zara si jaan baqi hai

ise tareekiyo ne qaid kar rakha hai barson se
mere kamre mein bas kehne ko raushandaan baqi hai

tumhaara jhooth chehre se aayaan ho jaayega ik din
tumhaare dil ke andar tha jo vo shaitaan baqi hai

guzaari umr jiski bandagi mein vo hai la-haasil
ajab sarmaayaakaari hai nafa-nuksaan baqi hai

abhi zinda hai boodha baap ghar ki zindagi bankar
faqat kamre juda hain beech mein daalaan baqi hai

ghazal zinda hai urdu ke adab-bardaar jinda hain
hamaari tarbiyat mein ab bhi hindostaan baqi hai

मेरी परछाइयां गुम हैं मेरी पहचान बाक़ी है
सफ़र दम तोड़ने को है मगर सामान बाक़ी है

अभी तो ख़्वाहिशों के दरमियां घमसान बाक़ी है
अभी इस जिस्मे-फ़ानी में ज़रा सी जान बाक़ी है

इसे तारीकियों ने क़ैद कर रक्खा है बरसों से
मेरे कमरे में बस कहने को रौशनदान बाक़ी है

तुम्हारा झूट चेहरे से आयां हो जाएगा इक दिन
तुम्हारे दिल के अंदर था जो वो शैतान बाक़ी है

गुज़ारी उम्र जिसकी बंदगी में वो है ला-हासिल
अजब सरमायाकारी है नफ़ा-नुक़सान बाक़ी है

अभी ज़िंदा है बूढ़ा बाप घर की ज़िंदगी बनकर
फ़क़त कमरे जुदा हैं बीच में दालान बाक़ी है

ग़ज़ल ज़िंदा है उर्दू के अदब-बरदार जिंदा हैं
हमारी तरबीयत में अब भी हिंदोस्तान बाक़ी है

- Abbas Qamar
9 Likes

Mehboob Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Abbas Qamar

As you were reading Shayari by Abbas Qamar

Similar Writers

our suggestion based on Abbas Qamar

Similar Moods

As you were reading Mehboob Shayari Shayari