mujhe rona nahin awaaz bhi bhari nahin karne | मुझे रोना नहीं आवाज़ भी भारी नहीं करनी - Afzal Khan

mujhe rona nahin awaaz bhi bhari nahin karne
mohabbat ki kahaani mein adaakaari nahin karne

hawa ke khauf se lipta hua hoon khushk tahni se
kahi jaana nahin jaane ki tayyaari nahin karne

tahammul ai mohabbat hijr pathreela ilaqa hai
tujhe is raaste par tez-raftaari nahin karne

hamaara dil zara ukta gaya tha ghar mein rah rah kar
yoonhi bazaar aaye hain khareedaari nahin karne

ghazal ko kam-nigaahon ki pahunch se door rakhta hoon
mujhe banjar dimaagon mein shjar-kaari nahin karne

wasiyyat ki thi mujh ko qais ne sehra ke baare mein
ye mera ghar hai is ki chaar-deewaari nahin karne

मुझे रोना नहीं आवाज़ भी भारी नहीं करनी
मोहब्बत की कहानी में अदाकारी नहीं करनी

हवा के ख़ौफ़ से लिपटा हुआ हूँ ख़ुश्क टहनी से
कहीं जाना नहीं जाने की तय्यारी नहीं करनी

तहम्मुल ऐ मोहब्बत हिज्र पथरीला इलाक़ा है
तुझे इस रास्ते पर तेज़-रफ़्तारी नहीं करनी

हमारा दिल ज़रा उकता गया था घर में रह रह कर
यूँही बाज़ार आए हैं ख़रीदारी नहीं करनी

ग़ज़ल को कम-निगाहों की पहुँच से दूर रखता हूँ
मुझे बंजर दिमाग़ों में शजर-कारी नहीं करनी

वसिय्यत की थी मुझ को क़ैस ने सहरा के बारे में
ये मेरा घर है इस की चार-दीवारी नहीं करनी

- Afzal Khan
0 Likes

Hijr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Afzal Khan

As you were reading Shayari by Afzal Khan

Similar Writers

our suggestion based on Afzal Khan

Similar Moods

As you were reading Hijr Shayari Shayari