mujhe apni pasti ki sharm hai tiri rifa'aton ka khayal hai | मुझे अपनी पस्ती की शर्म है तिरी रिफ़अ'तों का ख़याल है - Akhtar Shirani

mujhe apni pasti ki sharm hai tiri rifa'aton ka khayal hai
magar apne dil ko main kya karoon use phir bhi shauq-e-visaal hai

is ada se kaun ye jalva-gar sar-e-bazm-e-husn-e-khyaal hai
jo nafs hai mast-e-bahaar hai jo nazar hai ghark-e-jamaal hai

unhen zid hai arz-e-visaal se mujhe shauq-e-arz-e-visaal hai
wahi ab bhi un ka jawaab hai wahi ab bhi mera sawaal hai

tiri yaad mein hua jab se gum tire gum-shuda ka ye haal hai
ki na door hai na qareeb hai na firaq hai na visaal hai

tiri bazm-e-khalwat-e-la-makaan tira aastaan mah-o-kahkashaan
magar ai sitaara-e-aarzoo mujhe aarzoo-e-visaal hai

main watan mein rah ke bhi be-watan ki nahin hai ek bhi hum-sukhan
hai koi shareek-e-gham-o-mehan to vo ik naseem-e-shumaal hai

main bataaun waiz-e-khush-nawa hai jahaan-o-khuld mein farq kya
ye agar fareb-e-khyaal hai vo fareb-e-husn-e-khyaal hai

yahi daad-e-qissa-e-gham mili ki nazar uthi na zabaan mili
faqat ik tabassum-e-sharmageen meri be-kasi ka maal hai

vo khushi nahin hai vo dil nahin magar un ka saaya sa hum-nasheen
faqat ek gham-zada yaad hai faqat ik fasurda khayal hai

kahi kis se akhtar-e-be-nawa hamein bazm-e-dahr se kya mila
wahi ek saagar-e-zahr-e-gham jo hareef-e-nosh-e-kamaal hai

मुझे अपनी पस्ती की शर्म है तिरी रिफ़अ'तों का ख़याल है
मगर अपने दिल को मैं क्या करूँ उसे फिर भी शौक़-ए-विसाल है

इस अदा से कौन ये जल्वा-गर सर-ए-बज़्म-ए-हुस्न-ए-ख़्याल है
जो नफ़स है मस्त-ए-बहार है जो नज़र है ग़र्क़-ए-जमाल है

उन्हें ज़िद है अर्ज़-ए-विसाल से मुझे शौक़-ए-अर्ज़-ए-विसाल है
वही अब भी उन का जवाब है वही अब भी मेरा सवाल है

तिरी याद में हुआ जब से गुम तिरे गुम-शुदा का ये हाल है
कि न दूर है न क़रीब है न फ़िराक़ है न विसाल है

तिरी बज़्म-ए-ख़लवत-ए-ला-मकाँ तिरा आस्ताँ मह-ओ-कहकशाँ
मगर ऐ सितारा-ए-आरज़ू मुझे आरज़ू-ए-विसाल है

मैं वतन में रह के भी बे-वतन कि नहीं है एक भी हम-सुख़न
है कोई शरीक-ए-ग़म-ओ-मेहन तो वो इक नसीम-ए-शुमाल है

मैं बताऊँ वाइज़-ए-ख़ुश-नवा है जहान-ओ-ख़ुल्द में फ़र्क़ क्या
ये अगर फ़रेब-ए-ख़याल है वो फ़रेब-ए-हुस्न-ए-ख़याल है

यही दाद-ए-क़िस्सा-ए-ग़म मिली कि नज़र उठी न ज़बाँ मिली
फ़क़त इक तबस्सुम-ए-शर्मगीं मिरी बे-कसी का मआल है

वो ख़ुशी नहीं है वो दिल नहीं मगर उन का साया सा हम-नशीं
फ़क़त एक ग़म-ज़दा याद है फ़क़त इक फ़सुर्दा ख़याल है

कहीं किस से 'अख़्तर'-ए-बे-नवा हमें बज़्म-ए-दहर से क्या मिला
वही एक साग़र-ए-ज़हर-ए-ग़म जो हरीफ़-ए-नोश-ए-कमाल है

- Akhtar Shirani
0 Likes

Motivational Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Shirani

As you were reading Shayari by Akhtar Shirani

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Shirani

Similar Moods

As you were reading Motivational Shayari Shayari