aarzoo vasl ki rakhti hai pareshaan kya kya | आरज़ू वस्ल की रखती है परेशाँ क्या क्या - Akhtar Shirani

aarzoo vasl ki rakhti hai pareshaan kya kya
kya bataaun ki mere dil mein hain armaan kya kya

gham azeezon ka haseenon ki judaai dekhi
dekhen dikhlaaye abhi gardish-e-dauraan kya kya

un ki khushboo hai fazaaon mein pareshaan har soo
naaz karti hai hawa-e-chamanistaan kya kya

dasht-e-ghurbat mein rulaate hain hamein yaad aa kar
ai watan tere gul o sumbul o raihaan kya kya

ab vo baatein na vo raatein na mulaqaatein hain
mahfilein khwaab ki soorat hui veeraan kya kya

hai bahaar-e-gul-o-laala mere ashkon ki numood
meri aankhon ne khilaaye hain gulistaan kya kya

hai karam un ke sitam ka ki karam bhi hai sitam
shikwe sun sun ke vo hote hain pasheemaan kya kya

gesu bikhre hain mere dosh pe kaise kaise
meri aankhon mein hain aabaad shabistaan kya kya

waqt-e-imdaad hai ai himmat-e-gustaakhi-e-shauq
shauq-angez hain un ke lab-e-khandaan kya kya

sair-e-gul bhi hai hamein bais-e-vahshat akhtar
un ki ulfat mein hue chaak garebaan kya kya

आरज़ू वस्ल की रखती है परेशाँ क्या क्या
क्या बताऊँ कि मिरे दिल में हैं अरमाँ क्या क्या

ग़म अज़ीज़ों का हसीनों की जुदाई देखी
देखें दिखलाए अभी गर्दिश-ए-दौराँ क्या क्या

उन की ख़ुशबू है फ़ज़ाओं में परेशाँ हर सू
नाज़ करती है हवा-ए-चमनिस्ताँ क्या क्या

दश्त-ए-ग़ुर्बत में रुलाते हैं हमें याद आ कर
ऐ वतन तेरे गुल ओ सुम्बुल ओ रैहाँ क्या क्या

अब वो बातें न वो रातें न मुलाक़ातें हैं
महफ़िलें ख़्वाब की सूरत हुईं वीराँ क्या क्या

है बहार-ए-गुल-ओ-लाला मिरे अश्कों की नुमूद
मेरी आँखों ने खिलाए हैं गुलिस्ताँ क्या क्या

है करम उन के सितम का कि करम भी है सितम
शिकवे सुन सुन के वो होते हैं पशीमाँ क्या क्या

गेसू बिखरे हैं मिरे दोश पे कैसे कैसे
मेरी आँखों में हैं आबाद शबिस्ताँ क्या क्या

वक़्त-ए-इमदाद है ऐ हिम्मत-ए-गुस्ताख़ी-ए-शौक़
शौक़-अंगेज़ हैं उन के लब-ए-ख़ंदाँ क्या क्या

सैर-ए-गुल भी है हमें बाइस-ए-वहशत 'अख़्तर'
उन की उल्फ़त में हुए चाक गरेबाँ क्या क्या

- Akhtar Shirani
0 Likes

Haya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Shirani

As you were reading Shayari by Akhtar Shirani

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Shirani

Similar Moods

As you were reading Haya Shayari Shayari