mohabbat ki duniya mein mashhoor kar doon | मोहब्बत की दुनिया में मशहूर कर दूँ - Akhtar Shirani

mohabbat ki duniya mein mashhoor kar doon
meri saada-dil tujh ko maghroor kar doon

tire dil ko milne ki khud aarzoo ho
tujhe is qadar gham se ranjoor kar doon

mujhe zindagi door rakhti hai tujh se
jo tu paas ho to use door kar doon

mohabbat ke iqaar se sharm kab tak
kabhi saamna ho to majboor kar doon

mere dil mein hai shola-e-husn raksaan
main chaahoon to har zarre ko toor kar doon

ye be-rangiyaan kab tak ai husn-e-rangeen
idhar aa tujhe ishq mein choor kar doon

tu gar saamne ho to main be-khudi mein
sitaaron ko sajde pe majboor kar doon

siyah-khaana-e-gham hai saaqi zamaana
bas ik jaam aur noor hi noor kar doon

nahin zindagi ko wafa warna akhtar
mohabbat se duniya ko maamoor kar doon

मोहब्बत की दुनिया में मशहूर कर दूँ
मिरी सादा-दिल तुझ को मग़रूर कर दूँ

तिरे दिल को मिलने की ख़ुद आरज़ू हो
तुझे इस क़दर ग़म से रंजूर कर दूँ

मुझे ज़िंदगी दूर रखती है तुझ से
जो तू पास हो तो उसे दूर कर दूँ

मोहब्बत के इक़रार से शर्म कब तक
कभी सामना हो तो मजबूर कर दूँ

मिरे दिल में है शोला-ए-हुस्न रक़्साँ
मैं चाहूँ तो हर ज़र्रे को तूर कर दूँ

ये बे-रंगियाँ कब तक ऐ हुस्न-ए-रंगीं
इधर आ तुझे इश्क़ में चूर कर दूँ

तू गर सामने हो तो मैं बे-ख़ुदी में
सितारों को सज्दे पे मजबूर कर दूँ

सियह-ख़ाना-ए-ग़म है साक़ी ज़माना
बस इक जाम और नूर ही नूर कर दूँ

नहीं ज़िंदगी को वफ़ा वर्ना 'अख़्तर'
मोहब्बत से दुनिया को मामूर कर दूँ

- Akhtar Shirani
0 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Shirani

As you were reading Shayari by Akhtar Shirani

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Shirani

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari